government launched paisa portal for affordable credit and interest access | सरकार ने लॉन्च किया पैसा पोर्टल, आसानी से मिलेगी लोन और ब्याज सब्सिडी की जानकारी


Dainik Bhaskar

Nov 27, 2018, 04:15 PM IST

यूटिलिटी डेस्क. लाभार्थियों को सीधे बैंक से जोड़ने और छोटे कारोबारियों के दिए जाने वाली लोन सेवाओं में तेजी लाने के लिए सरकार ने सोमवार को एक नया पोर्टल शुरू किया है। आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा शुरू किए गए इस पोर्टल का नाम पैसा (Portal for Affordable credit and Interest Subvention Access) रखा गया है। दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन (डीएवाई-एनयूएमएल) के तहत इस पोर्टल की शुरुआत की गई है।

 

सब्सिडी प्रोसेसिंग के लिए एकीकृत मंच: इससे सेल्फ इंप्लॉयमेंट प्रोग्राम के तहत छोटा कारोबार करने वालों को सस्ता लोन और ब्याज सहायता की प्रोसेसिंग में मदद मिलेगाी। इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य पात्र लाभार्थियों को ब्याज सब्सिडी की प्रोसेसिंग के लिए एक केंद्रीकृत मंच प्रदान करना है। इस पोर्टल की मदद से डीएवाई-एनयूएमएल के तहत मासिक आधार पर अनुदान का प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) होने से छोटे उद्यमियों को आवश्यक वित्तीय सहायता भी उपलब्ध होगी।

 

साल के अंत तक जुड़ेंगे सभी बैंक: इस पोर्टल को इलाहाबाद बैंक ने विकसित किया है। यही योजना का नोडल बैंक भी है। इस पोर्टल में 30 बैंक शामिल हैं। इसके अलावा 25 राज्य भी इससे जुड़ चुके हैं। मंत्रालय ने बयान जारी करके कहा है कि सभी 35 राज्य और संघ शासित प्रदेश, सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (RRB) और सहकारी बैंक इस साल के अंत तक पोर्टल से जुड़ जाएंगे। सरकार की तरफ से कहा गया है कि इस पोर्टल की मदद से सेवाओं की आपूर्ति में बेहतर पारर्दिशता और दक्षता सुनिश्चित हो सकेगी।

 

दी जा चुकी है 145 लाख रुपए की ब्याज राहत: गौरतलब है कि राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत अभी तक कुल 36258 लाभार्थियों के लिए 51,177 लाख रुपए का लोन स्वीकृत किया गया है। इसमें 16577 महिला लाभार्थी भी शामिल हैं। लाभार्थियों को अभी तक ब्याज में 145 लाख रुपए की राहत भी दी जा चुकी है।

 

दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन: 23 सितम्बर 2013 को आवास एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्रालय मंत्रालय द्वारा स्वर्ण जयंती शहरी रोजगार योजना की जगह इस मिशन की शुरुआत की गई। इस मिशन का उद्देश्य शहरी गरीबों में कौशल विकास करके उनके लिए मौके तैयार करना है। इसके अलावा मिशन के तहत क्रेडिट तक आसान पहुंच सुनिश्चित करके स्व-रोजगार स्थापित करने में उनकी मदद भी की जाएगी। मिशन का लक्ष्य शहरी बेघर के लिए आवश्यक सेवाओं से सुसज्जित आश्रय प्रदान करना है। मिशन शहरी सड़क विक्रेताओं की आजीविका से संबंधित समस्याओं पर भी ध्यान देगा।



Source link

Leave a Reply