Utility News In Hindi : every thing about pradhanmantri kisan samman nidhi yojana | भू-स्वामी के रिकॉर्ड में जिन किसानों का नाम होगा शामिल, उन्हे ही मिलेगा योजना का लाभ


यूटिलिटी डेस्क. भारत सरकार ने हाल ही में किसानों को मदद पहुंचाने की द्रष्टि से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत की है। इसमें ऐसे किसान परिवारों को शामिल किया गया है जिसमें पति-पत्नी और 18 वर्ष तक के बच्चे 2 हेक्टेयर भूमि पर खेती करते हों। 1 फरवरी 2019 तक के लैंड रिकॉर्ड में किसान का नाम होना जरूरी है। इस योजना द्वारा 12 करोड़ किसान परिवारों की मदद की जाएगी। इस स्कीम में मिलने वाली राशि का उपयोग किसान अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने में कर सकता है। 

योजना से जुड़ी खास बातें…


  1. योजना का लाभ लेने के लिए पटवारी से संपर्क कर सकते हैं

    यानी यह योजना छोटे किसानों की खेती और घरेलू जरूरतों को पूरा करने में आर्थिक मदद करती है। इसके लिए जरूरी है कि आपका नाम ‘राज्य भू-स्वामी रिकॉर्ड’ में दिखे। यदि आपका नाम नहीं दिख रहा है तो अपने पटवारी, तहसील या भू-राजस्व विभाग में संपर्क करें। 



    – इस स्कीम का लाभ शहरी और ग्रामीण दोनों ही क्षेत्र के किसान उठा सकते हैं। सरकारी कर्मचारियों की बात करें तो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को इसका लाभ मिल सकेगा। यह योजना 1 दिसंबर 2018 से पूरे देश में लागू हो चुकी है। 



    – आपके पास साधन है और आप इंटरनेट चलाना जानते हैं तो वेबसाइट pmkisan.nic.in पर भी इस स्कीम से जुड़े लेटेस्ट अपडेट पा सकते हैं। इसी लिंक पर योजना के बारे में और अधिक जानकारी मिल जाएगी।



    – अगर लेखपाल और कृषि अधिकारी इसका लाभ देने में आनाकानी करते हैं तो सोमवार से शुक्रवार तक पीएम-किसान हेल्प डेस्क के ई-मेल (pmkisan-ict@gov.in) पर शिकायत करें। वहां भी बात न बने तो सीधे हेल्पलाइन के सेल फोन नंबर 011-23381092 पर कॉल करें। 


  2. सीधे खाते में पहुंचेगा पैसा

    यह राशि दो-दो हजार रुपए की किस्तों में चार महीने के अंतराल से तीन बार सीधे किसान के बैंक खाते में जमा होगी। इसके पीछे सरकार की यह सोच है कि इतनी छोटी जमीन पर होने वाली पैदावार से किसान वर्षभर अपने परिवार का पोषण और जरूरतें पूरी नहीं कर सकता। 


  3. यहां कराएं रजिस्ट्रेशन 

    किसानों को इसका लाभ पाने के लिए सबसे पहले अपने एरिया के कृषि विभाग में रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है। 



    – रेवेन्यू रिकॉर्ड, बैंक अकाउंट नंबर, मोबाइल नंबर और आधार नंबर की कॉपी देना होगी। कोई बात समझ न आए तो अपने लेखपाल से संपर्क कर सकते हैं। लेखपाल ही यह सत्यापित करता है कि आप किसान हैं। 



    – आप कृषि विभाग में जाकर सीधे अथवा ऑनलाइन पंजीयन भी करा सकते हैं। 



    – ऑफलाइन आवेदन करने के लिए ग्राम पंचायत या पास के सीएससी सेंटर जाना होगा। इस दौरान आधार कार्ड नंबर, मतदाता पहचान-पत्र और बैंक खाता नंबर अपने पास रखें। वहां फॉर्म दिए जाएंगे, जिन्हें भरना जमा कराना होगा। 



    – यदि एससी/एसटी वर्ग से हैं तो उसके लिए सर्टिफिकेट देना होगा। 



    – पिता का नाम, अपना मोबाइल नंबर, जन्मतिथि, खेती की जानकारी (जैसे-खेत का आकार, कितनी जमीन है आदि) देना होगी। किसानों के नाम की लिस्ट पंचायत पर लगाई जाएगी। इसके अलावा आपके मोबाइल पर भी एसएसएस भेजा जाएगा। 

     



Source link

Leave a Reply