Want to make a career in CA, avoid confusing institutes | CA में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो भ्रमित करने वाले इंस्टीट्यूट से बचें


Dainik Bhaskar

Oct 22, 2019, 05:01 PM IST

वैश्वीकरण की इस दुनिया में रहते हुए, जहाँ करियर व इंस्टीट्यूट चुनने के अनगिनत विकल्प हैं, वहीं चार्टर्ड अकाउंटेंट यानी सीए एक काफी प्रतिष्ठा भरा करियर माना गया है। जिसमें हर साल बच्चे अपना करियर आजमाते हैं और इसमें सफलता पाने के बाद सीए बनकर देश-विदेश की कंपनियों में फाइनेंस अकाउंट एवं टैक्स डिपार्टमेंट में फाइनेंस मैनेजर, अकाउंट मैनेजर, फाइनेंशियल बिजनेस एनालिस्ट जैसी कई विभिन्न और प्रतिष्ठित पोजिशन पर काम करते हैं। 

लेकिन कुछ समय पहले छात्रों द्वारा CA की गवनिरंग बॉडी द इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया (ICAI) के खिलाफ प्रदर्शन देखने को मिला। यह  एक गवनिर्ंग बॉडी है, जो सीए के एग्जाम कंडक्ट कराती है। इसके बाद छात्र एक प्रतिष्ठित जॉब के उम्मीदवार बनते हैं। लेकिन छात्रों और कुछ शिक्षकों का ये मनाना था कि ICAI द्वारा छात्रों को सही मार्क्स नहीं दिये जाते। ऐसे में कई इंस्टीट्यूट इस तरह के प्रदर्शन का फायदा उठाते हैं और उनके खराब रिजल्ट का दोष भी एग्जाम कंडक्ट करवाने वाली गवनिरंग बॉडी पर दाल देते हैं। इस तरह कि बयानबाज़ी और प्रदर्शन का सीधा असर CA कि तैयारी कर रहे छात्रों पर पड़ता है जिसके कारण कई बार वो अपने लक्ष्य से भ्रमित हो जाते हैं। 

भ्रमित होने से खुद को बचाएँ-

हर साल रिजल्ट आने के बाद कुछ इंस्टीट्यूट और उनके टीचर्स अपने इंस्टीट्यूट की असफलता को छुपाने के लिए बहाने खोजने लगते हैं। ऐसे में इसका खामियाजा कई बार ICAI  को भुगतना पड़ता है कि ICAI  संस्था छात्रों को सही  मार्क्स नहीं देती। इस तरह के बयानों से कई इंस्टीट्यूट व कोचिंग सेंटर्स अपनी असफल ट्रेनिंग को छुपाने का प्रयास करते हैं।  इस तरह की खबरों और चर्चाओं से CA कर रहे छात्र अपना आत्मविश्वास खोते जा रहे हैं। परिणामस्वरूप छात्र नेगेटिव सोच के साथ एग्ज़ाम्स में सफलता हासिल नहीं कर पाते हैं। 

कई बार CA के निराशाजनक रिजल्ट के चलते छात्रों और अभिभावकों द्वारा चार्टेड अकाउंटेंट की स्वतंत्र संस्था ICAI जैसे बड़े नामों को धूमिल करने की कोशिश की जाती है। ये ही नहीं ऐसे में कई CA कोचिंग इंस्टीट्यूट भी अपना रिजल्ट रिकॉर्ड की छवि को बचाने के लिए ऐसा रास्ता अपनाते हैं और खराब रिज़ल्ट रिकॉर्ड के लिए एग्जाम आयोजित करने वाले संस्थानों पर उंगली उठाते हैं।

क्या ICAI सच में मार्क्स नहीं देती ?

छात्र हो या अभिभावक किसी भी प्रकार की बयानबाज़ी या खबर की सच्चाई जाने बिना किसी भी निर्णय पर नहीं पहुँचना चाहिए। खबर की सत्यता की जांच करना बहुत जरूरी है खासकर जब बात हो करियर की। अगर इस बार के CA रिजल्ट की बात करे तो ICAI द्वारा पेश किए गए  इस बार के रिज़ल्ट में कई छात्रों का प्रदर्शन  बहुत अच्छा रहा है। इस बार CA फाउंडेशन की परीक्षा में 30971 छात्र बैठे थे जिनमें से 18.57% छात्र यानी की 5753 छात्र परीक्षा में सफल हुए है | वहीं CA फाइनल के परिणाम की बात करें तो इस बार CA न्यू कोर्स में 26515 छात्र परीक्षा में बैठे थे| जिनमें से 26.62% यानि की 7060 स्टूडेंट पास हुए है और ओल्ड कोर्स में कुल 77557 छात्र जिनमें से 17288 छात्र पास हुए | ओल्ड कोर्स में पास प्रतिशत रिजल्ट 22% रहा। अगर किसी भी अन्य प्रोफेशनल कोर्स से तुलना की जाये तो CA कोर्स का रिजल्ट अच्छा रहता है | और CA फाइनल की परीक्षा में बैठने वाला हर 5 वा स्टूडेंट CA बनकर निकलता है |

रिज़ल्ट की बात करें तो कई छात्रों का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है ऐसे में अगर आप भी CA की परीक्षा में सफल होना चाहते हैं तो तो उसके लिए छात्रों को पॉजिटिव अप्रोच रखना बहुत जरूरी है जो न केवल करियर में आपको सफल करती है बल्कि जीवन की अन्य कठिन परिस्थितियों में भी एक सलाहकार के रूप में काम आती है। आइये जाने कि कैसे एक सकारात्मक सोच आपको सफलता के शिखर तक पहुंचा सकती है। 

पॉजिटिव अप्रोच है सफलता की मुख्य सीढ़ी

CA बनना हो या कोई उच्च आधिकारिक पोस्ट के लिए तैयारी करनी हो सभी तरह के एग्जाम्स में स्टूडेंट की पॉजिटिव सोच होना बहुत जरूरी है। ऐसे में स्टूडेंट्स के साथ कोचिंग इंस्टीट्यूट की भी पॉजिटिव अप्रोच होना बहुत जरूरी है जिसकी मदद से सही गाइडेंस में स्टूडेंट्स सफलता प्राप्त कर पाते हैं। वहीं अगर किसी विद्यार्थी या मेंटर की अप्रोच नेगेटिव होती है तो उस स्थिति में चाहे मेहनत कितनी भी हो असफलता ही हाथ लगती है।

ऐसे में इस तरह के कोर्स के लिए छात्रों के जीवन में इंस्टीट्यूट या शिक्षा संस्थान एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। क्योंकि शिक्षा संस्थान न केवल शिक्षा प्रदान करने का काम करता है बल्कि अपने छात्रों को अच्छे-बुरे, सही- गलत आदि चीजों का मार्गदर्शन भी देता है। लेकिन कई छात्र ऐसे भी हैं जो भविष्य की कई अनिश्चितताओं के चलते एक बेहतर व सुरक्षित करियर के लिए सही फैसला नहीं ले पाते। इसलिए छात्रों को सही रास्ते की पहचान होना जरूरी है जो उनको आगे उनको सही पथ पर ले कर जाए। ऐसे में जयपुर का विद्या सागर कोचिंग इंस्टीट्यूट अपने विद्यार्थियों को पॉजिटिव सोच के साथ बेहतर शिक्षा प्रणाली भी देता है। CA बनाना कोई आसान लक्ष्य नहीं है इसके लिए कड़ी मेहनत की ज़रुरत होती है तभी व्यक्ति CA के पद को हासिल कर पाता है। लेकिन मेहनत के साथ ये भी देखना बहुत जरूरी है कि जहां से आप शिक्षा व ट्रेनिंग ले रहे हैं वो सही होना चाहिए।

सही गाइडेंस के लिए चुने सही कोचिंग

किसी प्रतियोगी परीक्षा में सफल होने के लिए कड़ी मेहनत के साथ-साथ कोचिंग संस्थानों की भी भूमिका अहम होती है। समय के साथ-साथ कोचिंग संस्थानों की भूमिका में भी खासा बदलाव आया है ऐसे में CA बनने के लिए भी बेहतर कोचिंग इंस्टीट्यूट के साथ सही मार्गदर्शन भी होना जरुरी है। ऐसे में  सही कोचिंग संस्थान का चुनाव किसी चुनौती से कम नहीं है इसलिए सूझबूझ के साथ कोचिंग का चुनाव करना चाहिए। जहां छात्रों को सही गाइडेंस के साथ, समय का सदुपयोग करना आदि भी सिखाया जाए क्योंकि शिक्षण के पथ का चयन एक विद्यार्थी के जीवन का महत्वपूर्ण भाग होता है। 

विद्यार्थियों को अपने शिक्षण के लिए एक विशेषज्ञ के मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। जो छात्रों के साथ मिल कर मेहनत करे व साथ ही सही-  गलत की पहचान से भी वाकिफ करवाए। इसकी मदद से ही छात्रों को एक उचित, इच्छित विकल्प का चयन करता है जो  उनके सर्वोत्तम प्रदर्शन को उजागर कर उनके संपूर्ण व्यक्तित्व को निखारता है। ऐसे में विद्या सागर कोचिंग इंस्टीट्यूट एक बेहतर कोचिंग संस्थान के रूप में सामने आया है जो न केवल बच्चों को सही ढंग से शिक्षित करता है बल्कि हर स्टूडेंट की कमजोरियों पर नज़र रखते हुए उन्हें परीक्षा के लिए पूर्ण रूप से तैयार करता है। आइये जानें VSI कैसे है बेहतर अन्य CA कोचिंग संस्थानों से। 

विद्या सागर करियर इंस्टीट्यूट कैसे है बेहतर :

  • VSI भारत का एकमात्र संस्थान है, जिसने पिछले 8 वर्षों में CA में 5 बार ऑल इंडिया 1st रैंक दी है जो, इसकी गुणवत्ता और उचित मार्गदर्शन को दर्शाता है। इसके अलावा, VSI ने CS एक्जीक्यूटिव में भी All India 1st रैंक दी है।
  • CA Exams में 2 बार Ever Highest Marks देने का रिकॉर्ड भी VSI के नाम ही है ।
  • हर लेवल की परीक्षा के अनुसार माहौल छात्रों को नियमित रूप से Mock Test सीरीज़ प्रदान की जाती है।
  • छात्रों की सहूलियत के हिसाब से एक्सट्रा क्लास भी दी जाती हैं, ताकि कोर्स के प्रति हर समस्या का समाधान हो सके।
  • प्रसिद्ध एवं प्रशिक्षित प्रोफेशनल्स द्वारा क्लासेज उपलब्ध करवाई जाती हैं।
  • 11वीं और 12वीं से ही छात्रों को सीए की पढ़ाई के लिए तैयारी करवाई जाती है, ताकि छात्र शुरुआती स्तर से ही इस परीक्षा के लिए अपनी बुनियाद मजबूत कर सकें।

इसके साथ ही CA Exams में 3 बार Ever Highest Marks देने का रिकॉर्ड भी विद्या सागर इंस्टीट्यूट जयपुर के नाम ही है। ऐसे में अगर आप भी 4 वर्षों में सीए बनने की इच्छा रखते हैं तो एक ऐसे शिक्षण संस्थान का चुनाव करें जो छात्र के टेलेंट के स्टैंडर्ड के हिसाब से उसे ट्रेन करे।

सही मार्गदर्शन विद्यार्थियों की आत्म-विश्वास को बढ़ाता है, जो उनकी योग्यताओं, क्षमताओं तथा रुचियों की समझ को विकसित करता है। ऐसे में CA कोर्स के लिए उचित मार्गदर्शन आपके कौशल तथा आत्मविश्वास का निर्माण करता है। इसलिए हमेशा अच्छे इंस्टीट्यूट का चयन करें जो जीवन में आपको एक उच्च स्तर पर ले जाए।  

इस विडियो में देखें VSI का छात्रों के नाम एक संदेश। 



Source link

Leave a Reply